मासिक धर्म समय पर लाने के उपाय व देरी के कारण

October 20, 2018

मासिक धर्म समय पर लाने के उपाय व देरी के कारण

कभी-कभी ऐसी स्थिति आ जाती है कि जब कभी हम छुट्टियों पर या किसी खास पार्टी में जाना होता हैैं तो हम बड़े तनाव में आ जाते हैं कि कहीं मासिक धर्म न जायें इस तनाव से मुक्ति पाने के लिए ऐसे कई प्राकृतिक तरीके हैं जो समय से पहले मासिक धर्म लाने में सहायक होते हैं और आप एकदम अपने आप को सुरक्षित महसूस करोगे।

 

मासिक धर्म को जल्दी लाना कब हो सकता है जरूरी

मासिक धर्म जल्दी लाने के कई कारण हो सकते हैं कई बार ऐसी परिस्थिति आ जाती है कि मासिक धर्म को जल्दी लाना जरूरी हो जाता है। इसी प्रकार से देरी से महामारी आना भी कई प्रकार की समस्या पैदा हो जाती है। इसलिए मासिक धर्म समय पर आना सही माना जाता है। किन किन परिस्थितियों में मासिक धर्म को समय से पहले लाना जरूरी हो जाता है।

किसी पार्टी या समारोह में जाना:
कई बार कई महिलाओं को किसी पार्टी या समारोह में जाना होता है। क्योंकि वहां का माहौल बड़ा खुशनुमा होता हैं और उस समय पीरियड आना पेट में दर्द और बैचेनी होती है। इसलिए कई महिलाओं को पार्टी में जाने से पहले पीरियड को लाना जरूरी हो जाता है।

अनियमित मासिक धर्म चक्र:-
मासिक धर्म चक्र की अनियमित होना भी मासिक धर्म को जल्दी लाना हमारे लिए अनिवार्य हो जाता है। महिलाओं मासिक धर्म का जो चक्र 20 से 32 दिनों बीच का होना अनिवार्यता होती है। जब यह मासिक धर्म समय पर नहीं आती तो यह अनियमि मासिक धर्म का एक कारण बन जाता है। इन परेशानियों को दूर करने के लिए समय से पहले मासिक धर्म लाना अनिवार्य हो जाता है।

रजोनिवृत्ति माहवारी के चक्र को प्रभावित करती है:-
रजोनिवृत्ति की स्थिति महिलाओं को अधिक उम्र में सताने लग जाती है। रजोनिवृत्ति की स्थिति में मासिक धर्म समय पर नहीं आता है तो इस मसस्या से निवारण के लिए किसी अव्छे डाॅक्टर से सलाह लेनी आवश्य हो जाता है।

प्रेगेंसी टालने के लिए जल्दी पीरियड लाना:-
ज्यादातर महिलाओं के दिमाग में यह घूमता रहता है कि जल्दी पीरियड लाने से प्रेगेंसी को टाला जा सकता है। अधिकतर महिलाओं के शरीर की बनावट इस प्रकार की होती है कि उनको बच्चे का जन्म देना ही होता है। लेकिन प्रेगेंसी के लिए तैयार न होेने वाली महिलाओं को इस स्थिति का सामना करना पड़ता है। इस प्रकार उन औरतों के मानसिक और शारीरिक दोनों ही तरह उनके स्वास्थ्य पर प्रभाव पड़ता है। इसी जो औरतें प्रेगेंसी नहीं होना चाहती व मासिक धर्म को जल्दी लाने की इच्छुक होती हैं।

स्तनपान कराना:-
मासिक धर्म को जल्दी ना ला पाने की बाधाओं में स्तनपान को भी शामिल किया जाता है। क्योंकि स्तनपान करने वाली महिलाओं के कई मासिक धर्म रूक जाता है। ऐसा इसलिए होता है कि उनके शरीर का हार्मोन में बदलाव आना। स्तनपान कराने वाली औरतें ज्यादातर यह सोचती हैं उनकी मासिक धर्म पीरियड समय में हो।

 

मासिक धर्म में देरी के कारण:-

यदि आप प्रेगेंट नहीं हैं तो मासिक धर्म में देरी होना कई तरह की समस्या की ओर इशारा करता है। इन समस्याओं केवल मासिक धर्म समय न आना बल्कि कई बार आता भी नहीं है। यह स्मस्या आपके शरीर के हार्मोन बदलाव व डाॅक्टर से परामर्श की ओर इशारा करता है। महिलाओं के जीवन में मासिक धर्म शुरू होने का चरण और रजोवृत्ति का समय, ये ऐसे दो पड़ाव हैं जिनमें मासिक धर्म की अनिमियता की ओर इशारा करता है। इन परिस्थितियों में महिलाओं के शरीर में कई तरह के बदलाव शुरू हो जाते हैं। जिन महिलाओं रजोनिवृत्ति नहीं होती उनको 28 दिनों में मासिक धर्म हो जाता है। जबकि अक्सर समय पर महिलाओं 21 से 35 दिनों के अन्तराल होता है। अगर आपको 21 से 35 दिनों के अन्तराल में मासिक धर्म नहीं होता है तो ये देरी के लक्षण है।

मासिक धर्म में देरी का कारण तनाव :-
तनाव आपके हार्मोन्स को कम करता है। तनाव के कारण रोजाना के कार्यों पर प्रभाव पड़ता है इसी प्रकार आप तनाव में रहकर कोई कार्य ठीक ढंग से नहीं कर सकते। तनाव से आपके शरीर के वजन कम व ज्यादा हो सकता है। तनाव के आपके शरीर के हार्मोन में दिक्कत आ जाती है। यदि आपको मासिक धर्म को निरंतरता में लाना है तो आपको अपनी दिनचर्या में बदलाव लाना होगा और इसी के साथ आपको एक्सरसाइज करनी पडेगी।

मोटापे से भी मासिक धर्म में देरी:-
जैसे आपके वजन कम होने से मासिक धर्म पर प्रभाव पड़ता है ठीक वैसे ही मोटापे से भी आपके मासिक धर्म पर देरी का प्रभाव पड़ता है। अगर आपका वजन ज्यादा बढ़ जाता है तो आपको रेग्यूलर एक्सरसाइज करनी पडेगी जिससे आपकी मासिक धर्म समय पर आये।

पाॅलीसिस्टिक अंडाश्य सिंड्रोम:-
महिलाओं के शरीर की वह स्थिति होती है जिसमें उनके शरीर के अंदर एंड्रोजन हार्मोन बनना शुरू हो जाता है इस प्रकार के हार्मोन असंतुलन से आपके गर्भाश्य में अल्सर बनने लगता है इससे आपके ओवुलेशन की प्रक्रिया होती है और यह प्रक्रिया बंद हो सकती है। इसमें आपके डाॅक्टर आपको मासिक धर्म को नियंत्रण करने दवा देते व सलाह देते हैं।

जन्म नियंत्रण के कारण मासिक धर्म में देरी:-
काफी औरतें जन्म नियंत्रण की दवा का प्रयोग करती हैं इन दवाओं के प्रयोग से औरतों के एस्अªोजन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन होता है। जो महिलाओं के गर्भाश्य में अंडे बनने की प्रक्रिया को नियमित करता है। इन दवाओं के सेवन को बंद करने के छः महीने बाद से मासिक धर्म समय पर आना शुरू हो जाता है।

दीर्घकालिक रोग के कारण पीरियड़ में देरी:-
लम्बे समय से चली आ रही बीमारी जैसे डायबिटीज और सीलिएक रोग की महिलाओं के पीरियड़ के चक्र को देरी में बदल देती है। महिलाओं के शरीर में हार्मोन बदलाव के कारण शुगर के स्तर में बदलवान होने लगता है। डायबिटीज की दवाओं का प्रयोग करने से पीरियड़ अनियमित हो जाता है।

थायराइड रोग के कारण पीरियड में देरी:-
मासिक धर्म में देरी होने के थायाराइड भी मुख्य कारण है। थायराइड आपके शरीर के हार्मोन व मैटाबाॅल्जिम को नियमित करता है। जबकि थायराइड गं्रथि के द्वार थाइराइड का कम या ज्यादा स्त्रावित होने से महिलाओं के मासिक धर्म में देरी हो जाती है। थायराइड के ईलाज के बाद आपका मासिक धर्म नियमित हो जाता है।

पीरियड़ जल्दी लाने के उपाय

पपीता पीरियड जल्दी लाने का तरीका:-
पपीता कैरोटीन से भरपूर होता है। यह एस्अªोजन हार्मोन को प्रोत्साहित करता है जो औरतों के मासिक धर्म को नियंत्रण करता है। मासिक धर्म का नियंत्रण करने के लिए पपीता का प्रयोग किया जाता है। पपीते के अलावा आप अपने आहार में अनानास, कद्दू, अंडे, गाजर, पालक जैसी अन्य भी आप कैरोटीन बढ़ाने के लिए उपयोग कर सकते हैं।

अदरक की चाय पीरियड जल्दी लाने की दवा:-
इस उपाय के लिए आपको दिन में 2 चाय काफी है। आपको सबसे पहले अदरक को घीयाकस से कसकर 2 कप पानी में 10 मिनट उबलने के बाद छानकर धीरे धीरे इसे पीये। अगर इसका स्वाद अच्छा न लगे तो इसमें आप शहद, नीबू या तुलसी भी डाल सकते हैं।

संभोग से भी पीरियड जल्दी आता है:-
संभोग करने के दौरान हार्मोनों का रिसाव होता है। जो मासिक धर्म को पहले लाने में साहयक होता है। सेक्से करने के दौरान रोग प्रतिरोधक क्षमता की बढ़ोतरी होती है शरीर के हार्मोन नियंत्रित होने से अन्य तरह की परेशानियां अपने आप ठीक हो जाती है।

गर्म पानी पैक से पीरियड जल्दी आता:-
क्या आप जानते हैं कि गर्म पानी पैक से भी पीरिड़ समय से पहले आ जाता है। इसके लिए अरंडी के तेल का प्रयोग कर सकते हैं। इसके आपको 10-15 मिनट तक पेट के नीचले हिस्से में सिकाई करनी होगी। इस कपड़े पर आपको थोड़ा से अरंडी का तेल डालना होगा और गर्म पानी से पेट से नीचले हिस्से की सिकाई 10 से 15 तक करनी होगी । इस प्रक्रिया से पीरिय समय पर आने लग जायेगा।

विटामिन सी पीरियड जल्दी आने में सहायता करता है:-
अधिक फल समय पर खाने से पीरियड में आसानी हो जाती है। इन फलों को खाने से शरीर के अन्दर एस्अªोजन हार्मोन का स्तर ठीक हो जाता है। विटामिन सी से गर्भाश्य की परत मजबूत हो जाती है। जिससे पीरियड़ होने में कोई परेशानी नहीं आती। इसके साथ आप टमाटर, ब्रोकली और पालक का प्रयोग कर सकते हैं।

तनाव से दूर रहना भी मासिक धर्म:-
जो औरतें तनाव ज्यादा लेती हैं उनको मासिक धर्म कभी समय पर नहीं आ सकता है। अगर आपको मासिक धर्म को नियंत्रण में लेना है तो तनाव से दूर रहना होगा। तनाव से शारीरिक व मानसिक प्रभाव पड़ता है जिससे आपके मासिक धर्म पर देरी होती है।

नारियल पानी से पीरियड जल्दी आता है:-
नारियल पानी में कई ऐसे प्राकृतिक गुण मौजूद हैं जो गर्भाश्य को सही रखते हैं। माहमारी को जल्दी लाने के लिए आप नारियल पानी प्रयोग कर सकते हैं। आपको खाली पेट नारियल पानी का सेवन करना होगा इसके पीने के बाद करीब करीब 4 से 5 घंटे तक आपको कुछ नहीं खायें। आप पानी पी सकते हैं।

सहजन से भी पीरियड जल्दी आता है:-
सहजन के प्रयोग से भी मासिक धर्म की नियंत्रण किया जा सकता है। सहजन के पेड़ की पतियों में विटामिन सी, विटामिन ए और आॅयरन पाया जाता है। ये सभी प्रेगेंसी को टालने के काम आते हैं। इसके लिए आपको एक कप सहजन के पतियां लेनी होगी और उनका जूस निकालकर सेवन करना होगा। इसका प्रयोग सुबह करेंगे। इसके अलावा आप सहजन को हल्दी व नमक के साथ पानी में उबालकर खाली पेट प्रयोग कर सकते हैं।

दाल चीनी से भी पीरियड जल्दी आता है:-
दाल चीनी शरीर में गर्मी पैदा करता है। इसमें प्रयोग किए तत्व इंसुलिन के स्तर को नियमित करता है। उसको प्रयोग करने के लिए आधा चम्मच दाल चीनी पाउडर को गर्म दूध में मिलाकर पी सकती हैं। जब तक आपको सही प्रणाम ने मिले।

Leave a Reply:

Your email address will not be published. Required fields are marked *